Information

Buy Your Copy of ‘NASAMAJH HI SAHI’ !

Buy Now in 50/-INR
and
get your copy of PDF FILE or KINDLE VERSION


For Kindle Version : Click Here
For PDF Version : Follow the Instructions : Make the payment 50 INR on 9455263023 and fill this form – FORM

A short story from the book – ‘ Ehasaanso ka Ashiyana’
जीवन में मुझे इतनी शर्मिंदगी कभी नहीं हुई जितनी अभी हो रही थी। मैं सिर्फ अपने ऑफिस का मेनेजर ही बनकर रह गया, जो मेरा भाग्य बनकर इस दुनिया में आई है.. उसका चेहरा भी इस वक्त देखने को नसीब नहीं हुआ मुझे। मेरे पिताजी के अनुसार मैंने जीवन में बहुत कुछ पा लिया पर हासिल न कर सका…

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *